ऑक्सीजन बेड्स की घोर कमी को पूरा करने के लिए स्लीपवेल ने 500 बेडिंग यूनिट्स का सहयोग दिया

नयी दिल्ली। भारत में कोविड-19 के मामलों में बहुत तेजी से उछाल आने के साथ हॉस्पिटल बेड्स एवं ऑक्सीजन सिलेंडर की मांग बढ़ती जा रही है। महामारी से लड़ने के लिए स्वास्थ्य सेवा समुदाय और सरकार हर संभव प्रयास कर रहे हैं, लेकिन यह भी बहुत जरूरी है कि कॉर्पोरेट्स आगे आएं और इस आपदा के समय देश का सहयोग करें। शीला फोम लिमिटेड की ओर से, भारत का अग्रणी मैट्रेस ब्रांड, स्लीपवेल एक बार फिर देश भर में चल रहे हैल्थकेयर के प्रयासों में सहयोग देने के लिए आगे आया है। सरकार के साथ अपना गठबंधन जारी रखते हुए, स्लीपवेल ने भारत की सबसे बड़ी कोविड-19 सुविधा को 500 बेडिंग यूनिट अनुदान में दी हैं। इन बेडिंग यूनिट्स में मैट्रेस, पिलो और बैक-रेस्ट के साथ बेड हैं, जो खासकर उन मरीजों के लिए डिज़ाईन किए गए हैं, जिन्हें ऑक्सीजन की जरूरत होती है। कंपनी ने पिछले साल 10,000 बेडिंग यूनिट के अनुदान के साथ इस सुविधा की स्थापना में अपना सहयोग दिया था।
मैनुफैक्चरिंग में स्लीपवेल की संपन्न विरासत और विशेषज्ञता के साथ, कंपनी ने रिकॉर्ड समय में मैट्रेस का उत्पादन, डिलीवरी एवं असेंबली की। भारत तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) द्वारा संचालित, सरदार पटेल कोविड केयर सेंटर अब कोविड-19 से प्रभावित मरीजों के लिए खुल गया है। इस अभियान के बारे में श्री राहुल गौतम, मैनेजिंग डायरेक्टर, शीला फोम लिमिटेड ने कहा, ‘‘कोविड-19 की स्थिति भारत में बिगड़ती जा रही है, इस समय हम सबको आगे कदम बढ़ाकर अपने अपने तरीके से हैल्थकेयर इन्फ्रास्ट्रक्चर एवं कोरोना वॉरियर्स का सहयोग करने की जरूरत है। स्लीपवेल में हम यह सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं कि हर कोविड-19 मरीज को सुरक्षित व स्वच्छ बेड मिले, ताकि वह तेजी से स्वास्थ्य लाभ ले सके। हमें सरकार के साथ गठबंधन करने पर गर्व है। इस समय हमने 500 बेडिंग यूनिट सरदार पटेल कोविड केयर सेंटर में स्थापित किए हैं और हम आगे भी उनकी जरूरतों में सहयोग करते रहेंगे।’’

    Leave Your Comment

    Your email address will not be published.*