ओशो के पहले सेक्रेटरी मां योगा लक्ष्मी पर सीरियल बनाएंगे राहुल मित्रा

मुंबई। पुरस्कार विजेता फिल्म निर्माता राहुल मित्रा ओशो के पहले सेक्रेटरी मां योगा लक्ष्मी पर एक मेगा सीरियल बनाने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। इसके लिए उन्होंने ब्रिटिश लेखक रशीद मैक्सवेल की बेस्ट सेलर किताब ‘द ओनली लाइफ : ओशो, लक्ष्मी एंड द जर्नी ऑफ द हार्ट’ के अधिकार भी खरीद लिए हैं। भगवान रजनीश के पहले सचिव मां योगा लक्ष्मी को उनके स्वयं के विवादास्पद व्यवहारों के कारण मा शीला ने पहले उन्हें अपस्ट्रीम कर दिया था, जबकि बाद में उन्हें बहिष्कृत कर दिया गया था। ओशो वर्ल्ड फाउंडेशन और संजय ग्रोवर के निर्देशन में राहुल मित्रा फिल्म्स और जार पिक्चर्स रंजन चंदेल सह-निर्माता के रूप में इन श्रृंखलाओं का निर्माण करेंगे। अपनी तरह की जीवनी में से एक ‘द ओनली लाइफ : ओशो, लक्ष्मी एंड द जर्नी ऑफ द हार्ट’ एक साधारण लड़की की कहानी है, जिसने खुद के लिए और दूसरों के लिए एक ऐसा रास्ता तैयार किया, जिससे एक अभूतपूर्व अंतरराष्ट्रीय आंदोलन का जन्म हुआ, जो 1970 और 80 के दशक में ओशो के इर्दगिर्द केंद्रित हो गया। पाथोस से भरा एक ऐसी कथा, जिसके सामने आने से पहले जहां उसके साथ हेरफेर करने वाली मां आनंद शीला ने उन्हें जगह दी। फिर बाद में अपस्ट्रीम करते हुए लक्ष्मी को बहिष्कृत कर दिया गया। इसके बावजूद योगा लक्ष्मी ने निराशा पर काबू पाते हुए अपने गुरु के प्रति समर्पण को न केवल चुना, बल्कि खुद को फिर से तलाशने और तराशने की कोशिश भी की।
इस संबंध में राशिद मैक्सवेल ने कहा, ‘ओशो की दृष्टि व कार्य और लक्ष्मी एवं उनके लोगों पर इसके क्रांतिकारी प्रभाव को व्यापक रूप से समझने की आवश्यकता है। मैं विशेष रूप से उत्साहित हूं कि इस परियोजना को राहुल मित्रा फिल्म्स और जार पिक्चर्स द्वारा बनाया जा रहा है। उनके द्वारा सिद्ध किए गए ट्रैक रिकॉर्ड को देखते हुए मुझे पूरा यकीन है कि इस संवेदनशील विषय के साथ पूर्ण न्याय किया जाएगा, जिसके समग्र रूप से समाज के लिए महत्वपूर्ण परिणाम हैं।’ उल्लेखनीय है कि ‘द ओनली लाइफ : ओशो, लक्ष्मी एंड द जर्नी ऑफ द हार्ट’ इंसानी जीवन के उतार-चढ़ाव को दर्शाने वाला एक असाधारण खाता है। खासकर आज के इन वर्तमान अराजक और अनिश्चित समय में योगा लक्ष्मी की यात्रा और उनके जीवन जीने का तरीका दयालुता, भक्ति और जागरूकता के माध्यम से जीवन की प्रतिकूलताओं से निपटने के लिए एक महत्वपूर्ण दृष्टांत के रूप में काम करता है।

    Leave Your Comment

    Your email address will not be published.*