तमिलनाडु ने दूसरी बार जीती सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी

अहमदाबाद। बायें हाथ के स्पिनर एम सिद्धार्थ की फिरकी के जादू की बदौलत तमिलनाडु ने रविवार को यहां फाइनल में बड़ौदा को सात विकेट से हराकर दूसरी बार सैयद मुश्ताक अली राष्ट्रीय टी20 टूर्नामेंट का खिताब जीता। बड़ौदा के 121 रन के छोटे लक्ष्य का पीछा करते हुए तमिलनाडु ने सलामी बल्लेबाज सी हरि निशांत (35), बाबा अपराजित (नाबाद 29) और कप्तान दिनेश कार्तिक (22) की पारियों की मदद से 12 गेंद शेष रहते तीन विकेट पर 123 रन बनाकर आसान जीत दर्ज की। शाहरूख खान ने अंत में सात गेंद में नाबाद 18 रन बनाए। सिद्धार्थ (20 रन पर चार विकेट) की बलखाती गेंदों के सामने बड़ौदा की टीम विष्णु सोलंकी (49) और अतित सेठ (29) के बीच सातवें विकेट की 58 रन की साझेदारी के बावजूद नौ विकेट पर 120 रन ही बना सकी। आर साई किशोर ने चार ओवर में सिर्फ 11 रन दिए लेकिन उन्हें कोई विकेट नहीं मिला। सोलंकी और सेठ ने हालांकि अंतिम चार ओवर में 50 रन जोड़कर टीम को सम्मानजनक स्कोर तक पहुंचाया। लक्ष्य का पीछा करने उतरे तमिलनाडु के लिए एन जगदीशन (14) और निशांत ने पहले विकेट के लिए 26 रन जोड़े। लुकमान मेरिवाला ने जगदीशन को आउट करके इस साझेदारी को तोड़ा।
निशांत और बाबा अपराजित ने इसके बाद 12वें ओवर में टीम का स्कोर 67 रन तक पहुंचाया। बाबा शफी पठान ने निशांत को भार्गव भट के हाथों कैच कराके पवेलियन भेजा। अपराजित और कार्तिक ने इसके बाद पारी को आगे बढ़ाया। टीम को अंतिम छह ओवर में जीत के लिए 40 रन की दरकार थी। कार्तिक ने पठान पर लगातार दो चौकों के साथ तमिलनाडु का पलड़ा भारी किया। सेठ ने हालांकि कार्तिक को पवेलियन भेजा लेकिन शाहरूख ने मेरिवाला पर दो चौके और छक्का जड़कर टीम की जीत सुनिश्चित की। तमिलनाडु के कप्तान कार्तिक ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया जिसे गेंदबाजों ने सही साबित किया। स्पिनरों आर साई किशोर और बाबा अपराजित ने गेंदबाजी की शुरुआत की। अपराजित ने पारी के दूसरे ओवर की अपनी पहली ही गेंद पर निनाद राथवा (01) को अरूण कार्तिक के हाथों कैच करा दिया। सेमीफाइनल में टीम की जीत में अर्धशतक जड़ने वाले कप्तान केदार देवधर (16) ने एम सिद्धार्थ पर लगातार दो चौके मारे लेकिन बायें हाथ के इस स्पिनर की गेंद को एन जगदीशन के हाथों में खेल गए।

    Leave Your Comment

    Your email address will not be published.*