बेस मेटल्स में तेजी का दौर जारी

यश सावंत, रिसर्च एसोसिएट, एंजेल ब्रोकिंग लिमिटेड
हाल के महीनों में दुनियाभर के निवेशकों द्वारा औद्योगिक धातुएं पसंदीदा असेट क्लास साबित हुई हैं। अप्रैल’21 के बाद से अधिकांश बेस मेटल्स ने लंदन मेटल एक्सचेंज में डबल अंक की बढ़त दर्ज की है, जिसमें कॉपर का परफॉर्मंस सबसे अच्छा रहा है। प्रमुख धातु कॉपर ने कड़े आपूर्ति बाजार, हरित क्रांति की दिशा में बढ़ते निवेश और वैश्विक अर्थव्यवस्थाओं के रिवाइवल के कारण एक्सचेंजों में रिकॉर्ड उच्च स्तर को छुआ है। कार्बन उत्सर्जन पर अंकुश लगाने के लिए वैश्विक उद्योगों ने पूरे औद्योगिक धातु स्पेक्ट्रम को मंच पर लाकर रख दिया है। इलेक्ट्रिक व्हीकल सेगमेंट में उल्लेखनीय विस्तार के बीच दुनिया हरित  पर्यावरण की ओर बढ़ रही है, आने वाले वर्षों में औद्योगिक धातुओं की मांग कई गुना बढ़ जाएगी जलवायु परिवर्तन पर बढ़ती चिंताओं के कारण हरित क्रांति को प्राथमिकता देने वाले कई देशों ने डिमांड के आउटलुक में सुधार किया है। चीन से पारंपरिक रूप से मजबूत मांग के साथ-साथ दुनिया को कम कार्बन वाले पर्यावरण के अनुकूल बनाने की कोशिश करने से सभी औद्योगिक धातुओं को 2020 से अपनी गति जारी रखने में मदद मिली।
जिंकदेर से खिलने वाला
उपर्युक्त समय सीमा में एमसीएक्स और एलएमई पर जिंक की कीमतों में क्रमशः 9 प्रतिशत और 10 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि हुई। वैश्विक अर्थव्यवस्थाओं में सुधार के बीच वैश्विक बाजारों में संभावित कमी की चिंताओं के कारण मई’21 में गैल्वनाइजिंग धातु की कीमतों में तेजी आई। रिपोर्टों से स्पष्ट है कि चीन के युन्नान प्रांत में स्थित स्मेल्टर ऊर्जा खपत मानदंडों का पालन करने के लिए अपने उत्पादन में कटौती कर सकते हैं। चीनी अधिकारियों द्वारा प्रदूषण को रोकने के लिए लगाए गए कड़े पर्यावरणीय प्रतिबंधों ने उनके औद्योगिक खंड पर गंभीर प्रभाव डाला है। उच्च ऊर्जा खपत वाले उद्योगों के बीच बढ़ती जांच ने निवेशकों को सतर्क रखा। प्रमुख जिंक और तांबा उत्पादक देशों पेरू और चिली में खनन कंपनियों पर करों में वृद्धि के कारण जिंक की कीमतों में और मजबूती आई, जिससे उत्पादन सीमित हो सकता है। इसके अलावा वैश्विक अर्थव्यवस्थाओं में हालिया सुधार के बावजूद लंबी अवधि के लिए कम ब्याज दर के माहौल पर बढ़ते दांव ने अमेरिकी मुद्रा को सीमित रखा जिसने डॉलर की कीमत वाली औद्योगिक धातुओं का समर्थन करना जारी रखा।
टीसी मार्जिन
जिंक के लिए ट्रीटमेंट चार्ज 2020 में एक दशक के उच्च स्तर ($ 299.75 प्रति टन) तक पहुंच गया था, जो 2021 में घटकर 159 डॉलर प्रति टन हो गया। प्रमुख जिंक उत्पादक देश वायरस की लहर में फंस गए हैं, जिसने खनन गतिविधियों को कम कर दिया। इससे ग्लोबल स्मेल्टर्स को वैश्विक खानों से सांद्र आपूर्ति की कमी की वजह से ट्रीटमेंट चार्ज में कटौती करनी पड़ी। हालांकि, पहले के महीनों में जिंक के लिए लाभ सीमित था क्योंकि खदान आपूर्ति में गिरावट के बावजूद वैश्विक रिफाइंड जिंक बाजारों में कोई कमी नहीं थी। इंटरनेशनल लेड एंड जिंक स्टडी ग्रुप (ILZSG) की रिपोर्ट के अनुसार वैश्विक रिफाइंड जिंक उत्पादन में 1.2 प्रतिशत की वृद्धि हुई और अनुमानित सरप्लस 533,000 टन पर समाप्त हुआ। यहां तक कि एलएमई की निगरानी वाले गोदाम में जिंक की इन्वेंट्री भी 2021 में 40 प्रतिशत से अधिक बढ़ गई (YTD)। भौतिक बाजार में अत्यधिक सरप्लस, छिपे हुए जिंक स्टॉक्स ने धातु की कीमतों को कम कर दिया।
आउटलुक
बढ़ती कमोडिटी कीमतों को स्थिर करने की दिशा में चीन का कदम औद्योगिक धातुओं के लिए काफी प्रतिकूल हो सकता है। जिंस की मांग और आपूर्ति के अपने प्रबंधन को मजबूत करने और कमोडिटी की कीमतों में “अनुचित” उछाल को प्रतिबंधित करने के चीन के इरादों से वैश्विक निवेशकों को आगे बढ़ने में सतर्कता रखनी पड़ सकती है। इसके अलावा, चीनी अधिकारियों द्वारा लगाए गए कड़े बिजली खपत मानदंड न केवल आपूर्ति को बाधित कर सकते हैं बल्कि सबसे बड़े धातु खपत वाले देशों में मांग को भी प्रभावित कर सकते हैं। साथ ही, पीपुल्स बैंक ऑफ चाइना (पीबीओसी) द्वारा अपनी मौद्रिक नीति को और सख्त करने की उम्मीद से बेस मेटल की कीमतों पर असर पड़ सकता है। हमें उम्मीद है कि एक महीने में जिंक की कीमतें एमसीएक्स पर 215 रुपये प्रति किलोग्राम तक कम हो जाएंगी। (सीएमपी : 231)

    Leave Your Comment

    Your email address will not be published.*