Tuesday, June 28, 2022

सोना नीचे जबकि तेल का ऊपर की ओर जाना जारी

Must Read

अमेरिका ने मजबूत आर्थिक आंकड़े रिपोर्ट किए और इसने अमेरिकी मुद्रा को मजबूती प्रदान की जिसने डॉलर मूल्यवर्ग की धातुओं के लिए अपील को कमजोर किया जबकि तेल एक प्रॉमिसिंग आउटलुक पर लाभ प्राप्त करना जारी रखा।
सोना
अमेरिकी ट्रेजरी यील्ड और डॉलर ने मजबूती हासिल की और इससे सोने की कीमतों को नुकसान पहुंचा। इस वजह से बीते सप्ताह में स्पॉट गोल्ड की कीमतें 0.5 प्रतिशत कम हो गईं। अमेरिका के उत्साह बढ़ाने वाले आर्थिक आंकड़ों ने उनकी घरेलू मुद्रा को मजबूती दी, जिसका डॉलर मूल्यवर्ग वाले सोने पर पड़ा। अमेरिकी निजी क्षेत्र की भर्ती में उल्लेखनीय वृद्धि, अपेक्षित बेरोजगारी के दावों में कमी और अमेरिकी सेवा उद्योग में विस्तार ने दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था में एक स्थिर सुधार की ओर संकेत किया।उम्मीद से बेहतर अमेरिकी आर्थिक आंकड़ों से बाजार में जोखिम उठाने की क्षमता बढ़ने के बाद निवेशकों ने सेफ हैवन समझने जाने वाले सोने से दूर रहने का फैसला किया और स्पॉट गोल्ड 1900 डॉलर के निशान से नीचे चला गया। वैश्विक अर्थव्यवस्थाओं में तेजी से सुधार, तेल की बढ़ती कीमतें और अमेरिकी फेडरल रिजर्व द्वारा मौद्रिक नीति में संभावित बदलाव पर दांव आने वाले सप्ताह में सोने की कीमतों पर दबाव बना सकते हैं।
कच्चा तेल
वैश्विक मांग की संभावनाओं में सुधार और यूएस क्रूड इन्वेंट्री में गिरावट के कारण सप्ताह के चार दिन में डब्ल्यूटीआई क्रूड 2.8 प्रतिशत से अधिक बढ़ गया। अमेरिका और चीन जैसी प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में महामारी के कारण लगे प्रतिबंधों में ढील और दुनियाभर में फैक्ट्री गतिविधि में मजबूत वृद्धि ने तेल की मांग के आउटलुक को मजबूत किया। एनर्जी इंफॉर्मेशन एडमिनिस्ट्रेशन की रिपोर्ट के मुताबिक यूएस क्रूड इन्वेंटरी पिछले हफ्ते 5.1 मिलियन बैरल गिर गया, जो बाजार में 2.4 मिलियन बैरल गिरने की उम्मीद को पार कर गया। पेट्रोलियम निर्यातक देशों के संगठन और उसके सहयोगियों ओपेक+ ने आने वाले महीनों में वैश्विक आपूर्ति को आगे बढ़ाने के लिए वैश्विक मांग का अनुमान लगाया है, जिसकी वजह से तेल के उत्पादन को बढ़ाने का फैसला किया है। वैश्विक बाजारों में ईरानी तेल की वापसी के कोई ठोस संकेत नहीं मिलने के बीच ईंधन की मांग में वृद्धि पर दांव से आने वाले सप्ताह में तेल की कीमतों में तेजी आ सकती है।
आधार धातु
पिछले हफ्ते एलएमई पर बेस मेटल्स ने कम कीमत पर कारोबार किया, जिसमें जिंक ने पैक में सबसे अधिक नुकसान दर्ज किया, क्योंकि चीन से मांग ठप हो गई और अमेरिका द्वारा मौद्रिक नीति में सख्ती होने की चिंताओं ने विकास से जुड़ी परिसंपत्तियों को कमजोर कर दिया। चीन में आयातित धातु का प्रीमियम कई वर्षों के निचले स्तर तक गिर गया, जो सबसे बड़ी धातु खपत वाली अर्थव्यवस्था में कमजोर मांग की ओर इशारा करता है जिसने औद्योगिक धातुओं पर दबाव डाला।
कॉपर
एलएमई कॉपर 2.8 प्रतिशत से अधिक गिर गया क्योंकि चीन से मांग की संभावना कम थी और मजबूत डॉलर ने कॉपर की आपूर्ति से जुड़े खतरों को कम कर दिया और कीमतों को कम कर दिया।

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img
Latest News

आमिर खान ने असम बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए 25 लाख रूपये दिए

मुंबई। बॉलीवुड स्टार आमिर खान ने हाल ही में असम के सीएम रीलीफ फंड के लिए मदद का हाथ...
- Advertisement -spot_img

More Articles Like This

- Advertisement -spot_img