Tuesday, June 28, 2022

सोना स्थिर जबकि चीन से कमजोर मांग की संभावनाओं की वजह से बेस मेटल्स में गिरावट

Must Read

प्रथमेश माल्या, एंजेल ब्रोकिंग लिमिटेड
प्रमुख धातु उपभोक्ता देश चीन से घटती मांग को लेकर बढ़ती चिंताओं ने कल के कारोबारी सत्र में तेल और औद्योगिक धातुओं पर दबाव बनाए रखा।
सोना
सोमवार को स्पॉट गोल्ड लगभग 0.5 प्रतिशत बढ़कर 1899 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुआ क्योंकि अमेरिकी आर्थिक आंकड़ों के आने से पहले डॉलर में थोड़ी कमजोरी आई जिससे बुलियन धातु अन्य मुद्रा धारकों के लिए अधिक आकर्षक हो गई। कम ब्याज दर के माहौल और संभावित मुद्रास्फीति के खतरों ने हाल के महीनों में सोने की कीमतों को ऊंचा रखा है। राष्ट्रपति जो बिडेन की $4 ट्रिलियन खर्च करने की योजना मुद्रास्फीति के स्तर को बचाए रख सकती है, बाजारों ने अमेरिकी फेडरल रिजर्व द्वारा मौद्रिक नीति में बदलाव की संभावना को भी बढ़ाया जिसने निवेशकों को सतर्क रखा।
अमेरिकी फेडरल रिजर्व ने ब्याज दरों को शून्य के स्तर पर बनाए रखा है ताकि अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने में मदद मिल सके। हालांकि, ब्याज दरों में बढ़ोतरी से गैर-यील्ड वाले सोने को रखने की लागत में वृद्धि होगी। दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था अमेरिका में स्थिर सुधार के बाद डॉलर के मजबूत होने से पहले सप्ताह में सेफ हेवन असेट माने जाने वाले सोने का कारोबार कम हुआ।
कच्चा तेल
सप्ताह के पहले कारोबारी दिन डब्ल्यूटीआई क्रूड की कीमतें 0.6 प्रतिशत की गिरावट के साथ 69.2 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुईं। कच्चे तेल की मांग में सुधार पर संदेह और चीन से कमजोर व्यापार आंकड़ों ने कच्चे तेल की कीमतों पर दबाव डाला। चीन के कच्चे तेल के आयात में मई’21 (वर्ष-दर-वर्ष) में 14.6 प्रतिशत की गिरावट आई है क्योंकि कठोर पर्यावरणीय मानदंडों के बीच चीनी रिफाइनरियों में मेंटेनेंस की वजह से तेल की खपत सीमित रही है। प्रमुख तेल खपत वाले देश चीन की कम मांग ने बाजार की धारणा को कमजोर कर दिया और कीमतों को कम कर दिया। ओपेक द्वारा अनुमानित ठोस मांग वृद्धि पर दांव लगाने के बाद कल के कारोबारी सत्र की पहली छमाही में तेल की कीमतों में तेजी आई। हालांकि, अक्टूबर 2018 के बाद पहली बार डब्ल्यूटीआई क्रूड की कीमतें 70 डॉलर के स्तर को छूने के बाद निवेशकों ने मुनाफावसूली की, जिससे कीमतों में गिरावट आई।
बेस मेटल्स
सप्ताह के पहले कारोबारी दिन अधिकांश औद्योगिक धातुएं दबाव में रहीं क्योंकि चीन की प्रमुख धातु खपत वाली अर्थव्यवस्था के लिए मांग का संकट लगातार बना हुआ है। औद्योगिक खंड में स्पष्ट कमजोरी के बाद, चीन के निराशाजनक व्यापार आंकड़ों ने भावनाओं को और अधिक प्रभावित किया। चीन का निर्यात मई’21 (वर्ष-दर-वर्ष) में 27.9 प्रतिशत की दर से बढ़ा, जो अनुमानित विकास दर से काफी कम है और अप्रैल’21 में दर्ज 32.3 प्रतिशत की वृद्धि से नीचे है। चीन में आयातित धातु के प्रीमियम में गिरावट के बाद कमजोर निर्यात डेटा इनलाइन आता है, जो चीन में कमजोर मांग की ओर इशारा करता है।
तांबा
एलएमई कॉपर की कीमतें 0.5 प्रतिशत से अधिक की गिरावट के साथ 9900.5 डॉलर प्रति टन पर बंद हुई थीं, क्योंकि पिछले महीने चीन की कॉपर खरीद कम हो गई थी। सीमा शुल्क के सामान्य प्रशासन के आंकड़ों के अनुसार, चीन का तांबे और तांबे के उत्पादों का आयात मई’21 में 445,725 टन रहा, जो अप्रैल’21 में 484,890 टन था। चीनी आयात में गिरावट मई 2021 में तांबे की कीमतों में सीमाओं के पार उच्च स्तर पर दर्ज होने के बाद आई, जिससे चीनी खरीदारों के लिए लाल धातु कम आकर्षक हो गई।

 

 

 

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img
Latest News

आमिर खान ने असम बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए 25 लाख रूपये दिए

मुंबई। बॉलीवुड स्टार आमिर खान ने हाल ही में असम के सीएम रीलीफ फंड के लिए मदद का हाथ...
- Advertisement -spot_img

More Articles Like This

- Advertisement -spot_img