Wednesday, May 18, 2022

7 साल बाद मिला माँ बनने का सुख

Must Read

औलाद होने की खुशी हर कोई चाहता है। परंतु बहुत से लोग इस खुशी से वंचित हो जाते है। आज के समय में इस खुशी से दूर होने की मुख्य वजह वर्तमान का खानपान, जीवनशैली एवं कुछ बुरी आदतें जिम्मेदार है। हर किसी की जॉब सीटिंग होने के कारण ऑफिस का तनाव एवं अल्कोहल, सिगरेट का सेवन इनफर्टिलिटी का कारण बनते जा रहे हैं।
आज की पूरी कहानी है आधारित है। खुशबू के माँ बनने पर कि कैसे 7 साल का सफर तय करने के बाद खुशबू को माँ बनने की खुशी मिली। खुशबू शादी के बाद इन 7 वर्षों में न जानें कहां-कहां पर इलाज के लिए भटकी परंतु कहीं पर भी उसको सफलता नही मिली।
आज का यह तकनीकी युग भी खुशबू को संतान खुश की खुशियों देने में असफल रहा। संतान सुख पाने की यात्रा में खुशबू ने बहुत चुनौतियों का सामना किया। परंतु इन्होनें अपने अटल इरादों और अपनी सोच के दम पर समाज की कुरितियों का सामना करते हुए। एक ऐसी जगह का चयन किया जहां पर बिना किसी सर्जरी एवं ऑपरेशन के निःसंतानता का इलाज किया जाता है। उस जगह का नाम है आशा आयुर्वेदा जिसकी संचालक है। डॉ चंचल शर्मा जो निःसंतान दंपतियों के लिए आशा की एक नई किरण है।
खुशबू जिसके लिए कई सालों से इधर-उधर भटक रही थी । परंतु उसकी सही मंजिल नही मिल पा रही थी। हमारी टीम जब खुशबू से मिली तो उन्होनें बात करने के दौरान बताया कि इनफर्टिलिटी के कारण 7 वर्ष 6 माह से मेरी गोद सूनी थी। मैं और मेरे पति हर जगह इलाज करवाकर अपनी सारी आशाएं छोड चुके थे। तभी मेरे पति के दोस्त जो बनारस में रहते है। उन्होेंने हमे आशा आयुर्वेदा का नाम सुझाया।
पहले तो मैं और मेरे पति हम दोनों लोग हिचकिचाए पर जब हमने उनके वर्षों के अनुभव और सफलता के बारे में यूट्यूब एवं अन्य जगहों पर उनके बारें में जाना। तो हमने कोशिश की और आज हमारी उसी कोशिश का परिणाम है। कि मुझे बच्चा कंसीव हो चुका है। मैं आशा आयुर्वेदा की पूरी टीम एवं डॉ चंचल शर्मा को धन्यवाद देती हूँ। जिन्होनें मेरी इतनी ज्यादा मदद की है। और मुझे मातृत्व सुख की इतने करीब पहुंचाने में मेरा हर तरीके से साथ दिया है।
आशा आयुर्वेदा की फर्टिलिटी एक्सपर्ट डॉ चंचल शर्मा अपने वर्षों के अनुभव एवं आयुर्वेदिक पंचकर्म पद्धति के द्वारा कई निःसंतान दंपतियों को मातृत्व व पितृत्व सुख देने में लगातार काम कर रहें है। डॉ चंचल शर्मा ने अब तक अपने आयुर्वेदिक उपचार से अधिक उम्र वाली महिलाओं (करीब 40-45 वर्ष) तक की सूनी गोद को भरा है। आशा आयुर्वेदा फर्टिलिटी सेंटर में आने वाले अधिकांश दंपतियों के आंगल में किलकारियां गूंज चुकी है। कई दंपति विदेशों से भी निःसंतानता का इलाज आशा आयुर्वेदा से ले रहे है और उनको पूरी सफलता मिल रही है। क्योंकि जो काम आइवीएफ तकनीक नही कर पा रही है। वह आशा आयुर्वेदा में पंचकर्म चिकित्सा के द्वारा संभव हो पा रहा है।

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img
Latest News

सीके बिरला हॉस्पिटल में सात साल के बच्‍चे की दुर्लभ लैप्रोस्‍कोपिक सर्जरी

नयी दिल्ली। दिल्ली के पंजाबी बाग स्थित सीके बिरला हॉस्पिटल के डाकटरों ने एक तरह का चमत्कार किया है।...
- Advertisement -spot_img

More Articles Like This

- Advertisement -spot_img