Wednesday, May 18, 2022

भारत का बैंकिंग उद्योग आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) और मशीन लर्निंग (एमएल) के दम पर क्रांतिकारी बदलाव की राह पर: डेलॉइट इंडिया बैंकिंग सर्वे

Must Read

मुंबई। कोविड-19 और नए डिजिटल परिचालन के मद्देनजर, बैंकिंग और वित्तीय संस्थान धोखाधड़ी की बढ़ती घटनाओं से निपटने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। डेलॉइट इंडिया बैंकिंग फ्रॉड सर्वे, संस्करण IV के मुताबिक ऐसी घटनाओं के जारी रहने की उम्मीद है। सर्वे में शामिल 78% प्रतिसादियों ने माना कि अगले दो वर्षों में धोखाधड़ी में बढ़ोतरी हो सकती है। अगले दो वर्षों में धोखाधड़ी की घटनाओं में वृद्धि के प्रमुख कारणों में बड़े पैमाने पर रिमोट वर्किंग मॉडल, ब्रांच से इतर बैंकिंग चैनलों का उपयोग करने वाले ग्राहकों की संख्या में वृद्धि और संभावित खतरे पहचान करने के लिए फॉरेंसिक एनालिटिक्स टूल का सीमित / अप्रभावी इस्तेमाल शामिल हैं।

धोखाधड़ी की घटनाओं में खुदरा बैकिंग की हिस्सेदारी अहम रही। सर्वे में शामिल 53 प्रतिशत ने माना कि उन्होंने (पिछले दो वर्षों में) 100 से अधिक धोखाधड़ी की घटनाओं का अनुभव किया है, जो पिछले संस्करण की रिपोर्ट के मुकाबले 29 प्रतिशत की वृद्धि दर्शाता है।
इसी तरह, सर्वे में शामिल 56% ने माना कि गैर-खुदरा खंड में औसतन 20 धोखाधड़ी की घटनाएं दर्ज की गईं और यह भी पिछली बार के मुकाबले 22 प्रतिशत अधिक है।
इसके अतिरिक्त, डेटा चोरी, साइबर अपराध, थर्ड पार्टी से प्रेरित धोखाधड़ी, रिश्वतखोरी और भ्रष्टाचार, और धोखाधड़ी के दस्तावेजीकरण को शीर्ष पांच चिंताओं के रूप में पहचाना गया है। सर्वे में शामिल 42 प्रतिशत से अधिक (संचयी) ने बताया कि वह इसका शिकार हुए हैं।

सर्वेक्षण के निष्कर्षों को जारी किए जाने के मौके पर अपनी बात रखते हुए डेलॉइट इंडिया के पार्टनर व फाइनेंशियल एडवाइजरी केवी कार्तिक ने कहा, “महामारी के प्रभाव के परिणामस्वरूप दुनिया भर के संस्थान पूरी तरह से नए वातावरण में काम कर रहे हैं। ग्राहकों द्वारा लेन-देन के लिए डिजिटल चैनलों के उपयोग में वृद्धि ने एक ओर जहां लेनदेन की आसानी और उसकी गति में योगदान दिया है। वहीं दूसरी ओर, विकसित और जटिल व्यापार मॉडल और तकनीक के बढ़ते उपयोग के साथ, मौजूदा धोखाधड़ी जोखिम प्रबंधन ढांचे को नई और अधिक जटिल चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है।”

इससे अनजाने में बैंकों के लिए नई कमजोरियां और जालसाजों के लिए अवसर पैदा हो गए हैं। जब हम न्‍यू नॉर्मल के साथ तालमेल बिठाते हैं, तो कुछ ऐसे तत्व होते हैं, जो प्रक्रियाओं और प्रणालियों में मौजूद खाई और कमजोरियों का फायदा उठाना चाहते हैं। उन्होंने कहा, “इसलिए उनके धोखाधड़ी जोखिम प्रबंधन ढांचे और नियंत्रणों को फिर से तैयार करना एक महत्वपूर्ण प्राथमिकता होनी चाहिए।”

सर्वेक्षण में शामिल लोगों ने बताया कि उनके धोखाधड़ी जोखिम प्रबंधन (एफआरएम) कार्य पर कोविड-19 के शीर्ष तीन परिणामों में धोखाधड़ी की निगरानी और पता लगाने के लिए विश्लेषणात्मक उपकरणों पर निर्भरता (25 प्रतिशत), ग्राहकों और कर्मचारियों के बीच धोखाधड़ी के बारे में जागरूकता पैदा करने (23 प्रतिशत), और रिमोट एफआरएम फ़ंक्शन (21 प्रतिशत) की क्षमताओं को बढ़ाने के लिए टारगेट ऑपरेटिंग मॉडल में बदलाव की आवश्यकता होगी।

यह धोखाधड़ी को कम करने के लिए बैंकों द्वारा (पिछले छह महीनों में) किए गए शीर्ष तीन उपायों में (आंशिक रूप से) दर्शाता है। सर्वेक्षण में शामिल लोगों ने एआई / एमएल का उपयोग करके मौजूदा प्रारंभिक चेतावनी संकेतों (ईडब्ल्यूएस) और धोखाधड़ी निगरानी प्रणालियों को अनुकूलित करने और बाहरी डेटाबेस को एकीकृत करने (23 प्रतिशत), धोखाधड़ी की घटनाओं का प्रभावी ढंग से जवाब देने/रिपोर्ट करने के लिए केस प्रबंधन समाधानों को बढ़ाना (18 प्रतिशत), और धोखाधड़ी-निगरानी कार्यों (17 प्रतिशत) में शामिल कर्मचारियों को बेहतर बनाने के लिए प्रशिक्षण/कार्यशालाओं की व्यवस्था करने की जरूरत पर बल दिया।

लेन-देन की मात्रा में निरंतर वृद्धि, उपभोक्ता व्यवहार में बदलते पैटर्न और नए उभरते जोखिमों के साथ, पारंपरिक नियम-आधारित समाधानों का उपयोग करके “खतरे” का पता लगाना अब अप्रासंगिक हो गया है। डेलॉइट इंडिया के पार्टनर निष्काम ओझा ने कहा, “महामारी ने बैंकों को सेवा में रुकावट से बचने के लिए कम समय में महत्वपूर्ण संगठनात्मक और परिचालन परिवर्तन करने के लिए मजबूर किया है। फ्रंट एंड पर असंख्य परिवर्तनों को लागू किया जा रहा है, लेकिन प्रक्रियाएं और प्रणालियां संभवतः इससे अछूती रहती हैं और ऐसे में यह सवाल पैदा करता है – क्या ऐसे सभी परिवर्तनों का मूल्यांकन धोखाधड़ी के प्रति उनकी संवेदनशीलता को ध्यान में रखकर किया गया है? ”

उन्होंने कहा, “जैसे ही नए धोखाधड़ी जोखिम सामने आने लगते हैं, वित्तीय संस्थानों को यह सुनिश्चित करने के लिए सतर्क रहने की जरूरत है कि वे इन जोखिमों को प्रभावी ढंग से कम करना जारी रखें। तकनीकी के उपयोग की खोज करने से बैंकों के संचालन के तरीके में वृद्धि हो सकती है ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि वे निवारक, जासूसी और प्रवर्तन उपायों के शीर्ष पर बने रहें।

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img
Latest News

सीके बिरला हॉस्पिटल में सात साल के बच्‍चे की दुर्लभ लैप्रोस्‍कोपिक सर्जरी

नयी दिल्ली। दिल्ली के पंजाबी बाग स्थित सीके बिरला हॉस्पिटल के डाकटरों ने एक तरह का चमत्कार किया है।...
- Advertisement -spot_img

More Articles Like This

- Advertisement -spot_img